छत्तीसगढ़

सत्ता परिर्वतन के बाद भी वही कार्यपद्दती और आम जनता को वही परेशानी सेवानिवृत के बाद भी संविदा में कार्य कर रहे है आरटीओ अधिकारी की मौजूदगी में दलालों की फौज सक्रीय

By: हरिमोहन तिवारी
2019-04-07 03:46:15 PM
0
Share on:

सत्ता परिर्वतन के बाद भी वही कार्यपद्दती और आम जनता को वही परेशानी सेवानिवृत के बाद भी संविदा में कार्य कर रहे है आरटीओ अधिकारी की मौजूदगी में दलालों की फौज सक्रीय

रायपुर बतादे कि प्रदेश के आरटीओ कार्यालय में दलालों की फौज हमेशा सक्रीय रहती है किन्तु राजनंदगांव में दलालों की फौज इतनी ज्यादा सक्रीय है कि आरटीओ का प्रभार संभाले संविदा नियुक्त अधिकारी गनी साहब की मौजूदगी में भी दलालों का कार्यालय के अन्दर बाबुओ के साथ बैठ कर कार्य करना खुली तरह से शासन के नियमो का उल्लंघन है वो भी तब जब प्रभारी अधिकारी गनी जी कार्यालय में मौजूद हो तब . आम जनता जहा अपना कार्य करवाने बाबुओ के कार्यालय के खिड़की में अपने नंबर का इंतज़ार करती है वही दलालों का कार्य बाबुओ के टेबल में बैठ कर होता है . 
शहर के कोने में मेडिकल कालेज के पीछे बने आरटीओ दफ्तर में दलालों का वर्चाव इतना है कि आम नागरिक स्वयं अपना कार्य नहीं कर पाटा अपने कार्य को स्वयं करने के लिए दफ्तर के कई चक्कर लग जाते है किन्तु वही कार्य दलालों को ज्यादा पैसे देकर एक दिन में ही करवाया जा सकता है . राजनंदगांव आरटीओ का हल तो यहाँ तक बुरा है कि शासकीय फाइल को हस्ताक्षर के लिए ऑफिस स्टाफ नहीं एक खास दलाल है जो अधिकारी का ख़ास बताया जाता है जिसके द्वारा दिए दस्तावेज ही अधिकारी हस्ताक्षर करता है . 
दलालों से भरे इस कार्यालय के प्रभारी तो एसडीएम साहब है किन्तु आचार संहिता के कारण प्रभार संविदा अधिकारी गनी साहब के पास है जो हर दस्तावेज पर हस्ताक्षर के लिए अधिकृत है सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार गनी साहब भाजपा सरकार के किसी कद्दावर मंत्री के बहुत करीबी होने के कारण सालो से राजनंदगांव आरटीओ में जमे हुए है . इतने करीबी है कि सेवानिवृत के बाद भी संविदा में कार्य कर रहे है और उसी कार्यालय में जमे हुए है . 
कार्यालय के प्रमुख होने के नाते कार्यालय की देख रेख की जिम्मेदारी भी उनकी है किन्तु 3 साल पहले बने इस भवन की हालत जर्जर हो रही है किन्तु आरटीओ साहब को फाइल में हस्ताक्षर जो दलाल द्वारा दिया जाता है उससे ज्यादा कोई कार्य करते हो ऐसी कोई जानकारी प्राप्त नहीं हुई है . आम जनता को उम्मीद थी कि सरकार परिवर्तन के बाद राजनांदगांव आरटीओ की हालत सुधरेगी किन्तु अभी तक कोई बदलाव नहीं हुआ राजनंदगांव आरटीओ में वही दलाल वही अधिकारी , वही कार्यपद्दती और आम जनता को वही परेशानी ऐसी हालत तब है जबकि प्रदेश के परिवहन मंत्री भी राजनंदगांव लोक सभा क्षेत्र के है क्या सरकार परिवर्तन का कोई फायदा होगा आम जनता को या फिर सिर्फ कुछ ख़ास लोगो को ही परिवर्तन का फायदा होगा अभी तक तो सिर्फ सरकार परिवर्तन हुआ है आम जनता के लिए परिवर्तन तब आएगा जब राजनांदगांव क्रञ्जह्र से दलालों का वर्चस्व ख़त्म होगा जिसका इंतज़ार आम जनता कर रही है



संबधित खबरें