छत्तीसगढ़

लोकसभा चुनाव की प्रत्याशियों को कैसे किसको मिली टिकट  जानिए कौन हैं ये 11 नए चेहरे जिन्हें भजपा ने उतारा है लोकसभा के मैदान में

By: हरिमोहन तिवारी
2019-03-25 02:36:57 PM
0
Share on:

लोकसभा चुनाव की प्रत्याशियों को कैसे किसको मिली टिकट 
जानिए कौन हैं ये 11 नए चेहरे जिन्हें भजपा ने उतारा है लोकसभा के मैदान में

 
रायपुर: भारतीय जनता पार्टी ने छत्तीसगढ़ से अपने सभी 11 प्रत्याशियों के नामों का ऐलान कर दिया है। भाजपा ने अपने पहले 5 प्रत्याशियों के नामों की घोषणा गुरुवार को ​कर दी थी। इसके बाद बाकी बचे 6 प्रत्याशियों का ऐलान र​विवार को कर दिया है। इस बार लोकसभा चुनाव में खास बात यह है कि भाजपा ने सभी 11 सीटों पर नए प्रत्याशियों को मौका दिया है। आइए जानते हैं उन सभी प्रत्याशियों के बारे में

रायपुर लोकसभा
रायपुर लोकसभा से 7 बार के सांसद रमेश बैस का टिकट काटकर उनकी जगह पर पार्टी ने संगठन के सक्रिय नेता माने जाने वाले पूर्व महापौर सुनील सोनी को प्रत्याशी के तौर पर उतारा है। भाजपा का गढ़ कहे जाने वाले रायपुर में कांग्रेस के वर्तमान महापौर प्रमोद दुबे बनाम पूर्व महापौर सुनील सोनी के बीच मुकाबला होगा। रायपुर नगर निगम के महापौर एवं रायपुर विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष रहे सुनील सोनी, छात्र राजनीति में सक्रिय रहते छात्र आन्दोलनों से जुड़े रहे। अपने समय में वें दुर्गा कालेज महाविद्यालय के अध्यक्ष भी रहे।


राजनांदगांव लोकसभा
संगठन का तेज तर्रार रणनीतिकार माने जाने वाले प्रदेश महामंत्री संतोष पांडेय को पार्टी ने इस बार अभिषेक सिंह की जगह पर मैदान में उतारा है। राष्ट्रीय स्वयं संघ से जुड़े संतोष पार्टी के विभिन्न पदों का दायित्व निभा चुके हैं वहीं राज्य युवा आयोग के अध्यक्ष भी रहे हैं। इसके पहले संतोष पंडरिया विधानसभा से चुनाव भी लड़ चुके हैं। युवा मोर्चा के विभिन्न दायित्वों में रह चुके हैं। कांग्रेस के भोलाराम साहू बनाम भाजपा के संतोष पांडेय का मुकाबला देखने लायक होगा।

बिलासपुर लोकसभा
बिलासपुर लोकसभा से इस बार पार्टी ने अरुण साव को चुनाव मैदान में उतारा है। कांग्रेस के अटल श्रीवास्तव बनाम अरुण साव का मुकाबला जातिगत समीकरण के मुताबिक काफी रोमांचक हो सकता है। पेशे से अधिवक्ता अरूण साव अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के प्रदेश मंत्री का दायित्व निभा चुके हैं। भारतीय जनता पार्टी युवा मोर्चा के प्रदेश महामंत्री रह चुके हैं। पार्टी ने लखनलाल साहू की जगह अरुण साव को चुनाव मैदान में उतारा है।


महासमुंद लोकसभा
महासमुंद लोकसभा से पूर्व विधायक चुन्नीलाल साहू को पार्टी ने उम्मीदवार बनाया है। इससे पहले भाजपा के चंदूलाल साहू सांसद थे, लेकिन इस दफा पार्टी ने उन्हें टिकट नहीं दिया है। चुन्नीलाल साहू 2008 में खल्लारी विधानसभा से एक बार विधायक निर्वाचित हुए हैं। किसान मोर्चा से जुड़कर किसानों के हित में कार्य करते रहे हैं। पूर्व विधायक चुन्नीलाल साहू बनाम कांग्रेस प्रत्याशी धनेंद्र साहू के बीच मुकाबला होगा।


दुर्ग लोकसभा
दुर्ग लोकसभा से पूर्व विधायक विजय बघेल को उम्मीदवार बनाया है। पाटन से विधायक रहे विजय बघेल ने वर्तमान मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को 2008 में पराजित किया था। पूर्व में भिलाई 3 चरौदा के नगर पंचायत अध्यक्ष रहे। वर्तमान में भाजपा प्रदेश कार्यसमिति सदस्य हैं। जातिगत समीकरण के आधार पर विजय बघेल भाजपा के सबसे मुफीद प्रत्याशी हैं।


कोरबा लोकसभा
कोरबा लोकसभा से ज्योतिनंद दुबे को भाजपा ने उम्मीदवार बनाया है। पूर्व में विधायक के चुनाव लड़ चुके थे। पूर्व में खाद्य आयोग के अध्यक्ष थे। वे सांसद प्रतिनिधि भी रहे हैं। साथ ही एसीसीएल में जुड़कर कर्मचारियों के हित में कार्य करते रहे हैं। कोरबा से पिछली बार डा बंशीलाल महतो सांसद थे, पार्टी ने इस दफा उनका भी टिकट काटा है।


बस्तर लोकसभा
लोकसभा से भाजपा जिला अध्यक्ष बैदूराम कश्यप को उम्मीदवार बनाया है। केशलूर विधान सभा से विधायक निर्वाचित होकर पहली बार विधायक बने। दूसरी बार चित्रकूट विधान सभा से विधायक निर्वाचित हुए और बस्तर विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष रहे हैं। बस्तर जिला पंचायत के सदस्य भी रहेे हैं। 2013 के विधानसभा चुनाव में बैदूराम कश्यप को कांग्रेस के दीपक बैज ने करीब 13 हजार वोटों से मात दी थी। इस बीच दो साल पहले उन्हें भाजपा ने जिला अध्यक्ष का दायित्व सौंपा लेकिन 2018 के विधानसभा चुनाव में टिकट से बाहर रखा। इस बार लोकसभा चुनाव में सांसद दिनेश कश्यप की टिकट काटकर पार्टी ने उन्हें लोकसभा चुनाव के लिए प्रत्याशी घोषित किया है।


कांकेर लोकसभा
लोकसभा से उम्मीदवार मोहन मंडावी वर्तमान में छत्तीसगढ लोक सेवा आयोग के सदस्य हैं धार्मिक सामाजिक सेवा में सक्रिय मोहन मंडावी राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ से जुड़े हुए हैं। वे प्रसिद्व रामकथा मानस गायक भी हैं। रमन सरकार ने 2015 में उन्हें पीएससी का सदस्य था। मंडावी ने अपने करियर की शुरुआत बतौर शिक्षक की थी। मंडावी इससे पहले राज्य शिक्षा आयोग के मेंबर भी रह चुके हैं।कांकेर सीट से प्रदेश अध्यक्ष विक्रम उसेंडी अभी सांसद हैं लेकिन इस बार बदले समीकरण के बीच मंडावी को टिकट दिया गया है।

सरगुजा लोकसभा
लोकसभा से पूर्व मंत्री रेणुका सिंह  को उम्मीदवार बनाया है। वे प्रेमनगर से विधायक दो बार निर्वाचित हुई हैं। 2003 से 2005 तक महिला बाल विकास मंत्री भी रही हैं। 2005 से 2013 तक सरगुजा विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष रही हैं।

 

रायगढ़ लोकसभा
लोकसभा कीे उम्मीदवार गोमती साय पूर्व में मण्डल अध्यक्ष का दायित्व संभाल चुकी हैं वर्तमान में जशपुर जिला पंचायत का अध्यक्ष हैं वे जनपद पंचायत की सदस्य भी रह चुकी हैं।

जान्जगीर-चांपा लोकसभा
जान्जगीर-चांपा से पूर्व संसद गुहाराम अजगले को उम्मीदवार बनाया है वे अविभाजित सारंगंढ़ लोकसभा से संसद रहे है। वर्तमान में प्रदेश कार्यसमिति के सदस्य है। जांजगीर से कमला पटले मौजूदा वक्त में सांसद हैं


ये हैं छत्तीसगढ़ के 11 लोकसभा प्रत्याशी

राजनांदगांव लोकसभा सीट से संतोष पांडेय
दुर्ग लोकसभा सीट से विजय बघेल
रायपुर लोकसभा सीट से सुनील सोनी
बिलासपुर लोकसभा सीट से अरुण साव
महासमुंद लोकसभा सीट से चुन्नीलाल साहू
सरगुजा लोकसभा सीट से रेणुका सिंह
रायगढ़ लोकसभा सीट से गोमती साय
कांकेर लोकसभा सीट से मोहन मंडावी
जांजगीर चांपा लोकसभा क्षेत्र से गुहाराम अजगल्ले
चित्रकोट विधानसभा सीट से बैदूराम कश्यप
कोरबा लोकसभा सीट से ज्योतिनंद दुबे



संबधित खबरें