EXCLUSIVE NEWS

प्रधानमंत्री आवास योजना बना कमाई का जरिया, सरपंच-सचिव समेत आवस मित्र हितग्राहियों से कर रहे उगाही... शिकायत के बाद भी कार्रवाई शून्य!

By: हरिमोहन तिवारी/प्रकाश सिन्हा
2018-12-20 02:30:15 PM
0
Share on: प्रकाश सिन्हा

रायपुर/जांजगीर-चांपा। वैसे तो केंद्र सरकार ने  कच्चे मकान मे रहने वालो को पक्का मकान उपलब्ध कराने के लिए प्रधान मंत्री आवास योजना को प्रारंभ किया और इस योजना के हितग्राहियो को लाभ देकर देश भर से कच्चा मकान मुक्त कराने की मुहिम छेड दी.

लेकिन नवागढ ब्लाक के हरदी हरि गांव मे प्रधानमंत्री आवास योजना यहां के सरपंच सचिव और आवास मित्र के कमाई का जरिया बन गया है। योजना की आड मे सरपंच और उसके परिजन शासकीय जमीन को बेच दिए है.

 जिसके कारण गांव से खेल मैदान और गौ उठान समाप्त हो गया है. इतना ही नही मरे हुए लोगो के नाम पर स्वीकृत प्रधानमंत्री आवास को मोटी रकम लेकर उसके परिजनो को स्वीकृत कर दिया,,,साथ ही सरपंच ने पक्का मकान होते हुए भी अपने खुद के पति ,जेठ और देवर के नाम पर पर प्रधान मंत्री आवास स्वीकृत करा कर मकान बना ली है।

गौरतलब है कि जांजगीर चांपा जिला के नवागढ विकास खंड के हरदी हरि गांव मे सरपंच सचिव और आवास मित्र के साँठ गांठ से प्रधान मंत्री आवास योजना भ्रष्टाचार का मुख्य माध्यम बन गया है. जहां सरपंच पति और सचिव ने खेल मैदान की शासकीय भुमि को आवास के बनाने के लिए बेच दिया वही आवास मित्र निर्माणधिन मकानो का फोटो खींच कर आँन लाईन एंट्री कर प्रति फोटो पांच सौ रुपए की उगाही कर रहा है। इतना ही नही सरपंच के पति के साथ दो भाईयो के नाम पर पीएम भी स्वीकृत करा कर शासन को चुना लगा रहे है। 

कार्रवाई के अभाव में बढ़ी सरपंच सचिव की मनमानी

सरपंच और सचिव के साथ आवास मित्र का हौसला इस कदर बुलंद है कि उन्हे किसी का डर नही है और जो इनका विरोध करते है पैसा देने मे आना कानी करते है उनका आवास निर्माण मे आपत्ति लगा कर  केंद्र सरकार से मिलने वाली राशि पर रोक लगावा देते है। इस आवास मित्र की मनमानी से तंग आकर एक ग्रामीण ने पैसे लेन देन करते हुए फोटो भी खींच लिया लेकिन इन पर कोई कारवाई नही हो रही है।

सीईओ ने जांच के बाद कारवाई का दिलाया भरोसा 

सरपंच सचिव और आवास मित्र की दबंगई इस कदर बढ गया है कि खुद सरकारी जमीन पर कब्जा कर भवन निर्माण कर लिए है और जो भुमि हिन मजदूर वर्ग के किसान है उनका आवास बनाने मे अडंगा लगा रहे है. इस मामले की जानकारी नवागढ जनपद के सीईओ को देने पर उन्होने जांच के बाद कारवाई का भरोसा दिलाया है। 



संबधित खबरें