छत्तीसगढ़

50,000+ में रहे छत्तीसगढ़ के दो निर्दलीय प्रत्याशी नीलम और संपत, एक ने कांग्रेस तो दूसरे ने बीजेपी को छोड़ा पीछे

By: प्रकाश सिन्हा, रायपुर
2018-12-14 05:38:28 PM
0
Share on:

रायपुर। छत्तीसगढ़ प्रदेश में हुए विधानसभा चुनाव के नतीजे चौकानें वाले सामने आए है। भाजपा को परास्त कर कांग्रेस ने पूर्ण बहुमत के साथ सरकार बना रही है। वही प्रदेश के ऐसे दो निर्दलीय प्रत्याशी है जिन्होंने ने राष्ट्रीय पार्टी कांग्रेस-बीजेपी को टक्कर देते हुए पीछे छोड़ा। 

दरसअल, हम बात कर रहे है छत्तीसगढ़ दो निर्दलीय विधायक  जिन्होंने राष्ट्रीय पार्टी को मात देते हुए आगे निकल गए। जिसमे  कुरूद विधानसभा से नीलम चंद्राकर ने 60605 मत एवं बसना विधानसभा से सम्पत अग्रवाल ने 50027 मत प्राप्त कर राष्ट्रीय पार्टी को पीछे छोड़कर आगे निकले, फिर भी उन्हें हार का सामना करना पड़ा। 
आपको बतादे की कुरूद के नीलम को छत्तीसगढ़ के पंचायत मंत्री रहे अजय चंद्राकर से 12317 मत से हारे। वहीं बसना विधानसभा से सम्पत अग्रवाल को देवेन्द बहादुर सिंह ने 17508 मत से हराया। ये दोनों निर्दलीय प्रत्याशी ने कांग्रेस व बीजेपी से बागी होकर चुनाव लड़े। जिस पार्टी से बगावत कर चुनाव लड़े थे उसी पार्टी से ज्यादा वोट पाकर राष्ट्रीय पार्टी को एक सन्देश दे गए। 

बसना के सम्पत हार कर भी जीत गए

प्रदेश में सबसे ज्यादा चर्चित और हाईटेक चुनाव बसना विधानसभा में था। जंहा सबसे ज्यादा रोमांचक संपत अग्रवाल के कारण रहा। बतादे की संपत अग्रवाल भाजपा से बागी होकर निर्दलीय चुनाव लड़े। चुनाव प्रचार व सेवा समर्पण भावना देख भाजपा के स्टार प्रचारकों ने बसना में अनेक आम सभाएं की। वही अंत मे तत्कालीन मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह को सांकरा में जनसभा को संबोधित करते हुए मंच पर ही कहना पड़ गया था कि निर्दलीय को वोट न दे। 

जिसके बाबजूद क्षेत्र की जनता ने भाजपा के बजाए निर्दलीय प्रत्याशी को सबसे ज्यादा वोट दिए। वहीं चर्चा का माहौल रहा कि बसना के संपत ने कड़ी मेहनत की मगर कांग्रेस की लहर ने सब पानी फेर दिया। फिर भी श्री अग्रवाल ने स्वतंत्र प्रत्याशी के रूप में उन्होंने 50 हजार से ज्यादा वोट अर्जित करना स्वयं में एक रिकॉर्ड है।



संबधित खबरें