महासमुंद न्यूज़

फर्जी मृत्यु प्रमाण पत्र जारी करवा कर बेच दिया गया धान, मामला में लीपापोती की आशंका

By: डीएनए न्यूज़ सरायपाली
2018-11-18 12:15:14 PM
0
Share on:

सरायपाली । प्राथमिक कृषि साख सहकारी समिति कोटद्बारी के धान खरिदि केन्द्र बलौदा में एक मृत महिला किसान के नाम से धान बेचने का मामला सामने आया है।

प्राप्त जानकारी अनुसार महिला किसान सुकमेत नायक पति रवितराम निवासी टेमरी के नाम से 6 तारीख को धान बेचने के लिए टोकन कटा गया था पर उनकी 5 तारीख को निधन हो गया। उसके बावजूद धान खरीदी कर्ममचारियों के सांठगांठ से मृतक के पट्टे से धान बेच दिया गया।

यह मामला  टेमरी के एक किसान यदुमनी स्वाई द्बारा खुलासा हुआ। क्योंकि श्री स्वाई का पिताजी का पिछले साल स्वर्गवास हो गया था उसका फौत कटाकर सारा प्रक्रिया करके वे धान बेचने के लिए सोसाइटी का चक्कर लगा रहा है लेकिन उनका धान नहीं ले रहे हे।श्री स्वाई का कहना हे जब मेरा धान नहीं लियागया तो मृतक सुकमेत का धान कैसे लिया गया।

इस मामले कि जानकारी जब नोडल अधिकारी पेशीलाल पैकरा से लियागया तो उन्होनें बताया मृतक के परिवार ने उनका 7 तारीख का मृत्यु प्रमाणपत्र दिखाया बोले।जब दुसरा दिन नोडल से मृत्यु प्रमाणपत्र दिखाने को कहा गया वे बोले हमे मृत्यु प्रमाणपत्र नहीं दिया गया हे। उनका परिवार वाले हमे झूठ बोलकर धान बेचे हे जब हमे बात में पताचला तो बैंक को लिखित में जानकारी दे दिए हे। नोडल के गोलमोल जवाब से पता चलता हे इस गड़बड़ी में उनका पुरा सहयोग हे।

इस सम्बंध में ग्राम पंचायत सचिव इंदल खूंटे से बात किया गया तो उन्होंने बताया कि मृतक के परिजनों द्वारा 7 तारिक को ही मृत्यु होंना बताया गया है जिसके आधार पर मृत्यु प्रमाण पत्र जारी किया गया है

क्या होता फ़ायफा मृतक महिला  किसान का फर्जी प्रमाण पत्र का पता नही चलता तो और धान बेचने की प्लानिंग था जो पूरी तरह फर्जी है

जब सचिव से पूछा गया कि आप बिना जांच और पुष्टि किए बिना ही प्रमाण पत्र जारी करते है क्या...? तो सचिव ने कहा कि जो परिजन जानकारी देते है उन्ही के आधार पर मृत्यु प्रमाण पत्र जारी किया जाता है. यह पूरा मामलजांच का विषय बना हुआ। 



संबधित खबरें