छत्तीसगढ़

जगदलपुर मे पीएम मोदी का अवाहन कहा शहरी नक्सलवाद आदिवासी बच्चो के ज़िंदगी तबाह कर रहे हैं

By: DNA NEWS DESK
2018-11-15 01:34:56 PM
0
Share on:

रायपुर। भाई दूज के दिन पीएम मोदी का अवाहन छत्तीसगढ़ के जगदलपुर मे भी देखने को मिला। छत्तीसगढ़ भाजपा का नेतृत्व कर रहे जगदलपुर की रैली में नरेंद्र मोदी ने कहा कि 

मै बस्तर कभी खाली हाथ नहीं आया इस बार भी आपके लिये विकास के नये पैमाने लेकर आया हूं। प्रधानमंत्री ने शहरी नक्सलवाद का मुद्दा यहा भी उठाया। और उन्होंने कह कि शहरी नक्सलियों के बच्चे विदेश में पढ़ते हैं, मगर वो आदिवासियों की जिन्दगी तबाह कर रहे जिन बच्चों के हाथों में जिस समय कलम होना चाहिए उस समय उनके हाथों में बंदूक थमा दिया जाता है। और कांग्रेस पार्टी यहा कि शहरी माओवादियों को बचाने के लिए मैदान में उतर जाती है। पीएम मोदी ने कहा कि सच्चाई तो यह है कि जमीन से कटे और चांदी का चम्मच ले कर पैदा हुये नेता कभी अदि‍वासियो का दर्द समझ ही नहीं पाये हैं। 

 

प्रधानमंत्री ने कहा कि छत्तीसगढ़ में पैसे पहले भी थी, सरकार पहले भी थी, लेकिन बिचौलिये सारा पैसा खा जाया करते थे जब हमारी सरकार आयी तो हमने बिचौलियो को खत्म किया। आज रमन की सरकार में जहा देखो विकास देखने को मिलता है, यह सब ईच्छाशक्ति से ही संभव हुआ है। प्रधानमंत्री ने कहा कि हमारा एक ही मंत्र है 'सबका साथ, सबका विकास' । हमे आप लोगो की चिंता है। पीएम ने कहा कि छत्तीसगढ़ में कमल के संग का विकास हो रहा है है और इस बार भी कमाल ही खिलना चाहिए। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि मुझे अटल जी के सपनो को पूरा करना है इसलिए बस्तर बार-बार आता हू। आज भी बस्तर इसीलिए आया हू। पीएम ने कहा कि हमे साथ मिलकर बस्तर का भाग्य बदलना हैं। 

 

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि यूपिए सरकार ने सदा ही छत्तीसगढ़ की रमन सरकार की कामो मे रोड़े डालने का काम किया है। अटल बिहारी वाजपेयी ने अलग राज्य बनाया लेकिन कांग्रेस ने इसे उपेक्षित कर दिया। उन्होंने कहा कि हमारा कोई एक हाइकमान नहीं है बल्कि देश की जनता ही हाईकमान है। उन्होंने कहा कि रमन सिंह सरकार ने गांवों को सड़कों से जोड़ा। सात नई रेल लाइनों को मंजूरी दी गई।15 हजार किलोमीटर की रेललाइन के चौड़ीकरण का काम केंद्र  सरकार ने किया है। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ का कोना-कोना विकास का पर्याय बना हुआ है।

 

मैं बस्तर के लोगों से कांग्रेस के नेताओं को एक उचित सबक सिखाने का आग्रह करता हूं, जो एक तरफ शहरी नक्सलियों को सुरक्षा मुहैया कराने की कोशिश करते हैं और दूसरी ओर छत्तीसगढ़ में राज्य को नक्सलियों से मुक्त करने की बात करते हैं।

 

उन्होने कहा कि शहरी माओवादियों के बच्चे विदेश में पढ़ते हैं, शहरी माओवाद लोग एसी कार में घूमते हैं, तो वही दूसरी ओर वो आदिवासी युवाओ का जीवन बर्बाद कर रहे हैं। आखिर कांग्रेस इन शहरी मावोवाद का समर्थन क्यो करती है? प्रधानमंत्री मोदी ने कहा-आज बीजेपी डंबल इंजन पर चल रहा है ।एक रायपुर का इंजन, तो दूसरा दिल्ली का। हमने चार सालो में तीस हजार किलोमीटर सड़के बनायी है। 

 

प्रधानमंत्री ने कांग्रेस और माओवादियों को आड़े हाथ लेते हुये कहा कि अभी कुछ दिन पहले माओंवाद हमले में डीडी न्यूज के कैमरामैन अच्युतानंद साहू की मौत हो गई। पीएम ने कहा कि वो कंधे पर बंदूक लेकर नहीं आया था वो तो बस बस्तर के लोगो का जीवन का परिचय देश से कराना चाहता था। उसकी गलती क्या थी? अभी दो दिन पहले भी नक्सली हमले में जवान मारे गये। माओवादी निर्बलो की हत्या करे और कांग्रेस उन्हे क्रांतिकारी कहे। क्या कांग्रेस की इस बात का आप समर्थन करते हैं? एक निर्दोष पत्रकार को बेवजह मार देना ये कैसी क्रांति है? और वो कांग्रेस को क्रांतिकारी लगने लगे हैं । 

 



संबधित खबरें