लाइव दर्शन

कोरबा: महादेव के आँगन में उठी छठ की पहली अर्ग

By: Roshan kumar
2018-11-13 07:04:56 PM
0
Share on: On the spot

कोरबा। उत्तरी भारत के लोगो द्वारा मनाया जाने वाला महापर्व छठ इन दिनो न केवल देश, अपितु विदेश के कुछ मुख्य हिस्सों में पूरे धूम-धाम से मनाया जा रहा है। छत्तीसगढ़ में भी उत्तर भारत के लोग बसे हैं जिसके कारण दिवाली के ठीक बाद मनाने वाला छठ मे समूचे प्रदेश में काफी चहल-पहल बनी रहती है। इन दिनो कोरबा के काली बाड़ी स्थित शिव मंदिर में काफी हर्ष उल्लास का माहोल रहता है चार दिनो तक चलने वाले इस पर्व मे इस बार,
11 नवम्बर - नहाय खाय
12 नवम्बर - खरना
13 नवम्बर -पहली अर्ग(संध्याकालीन )
14 नवम्बर - दूसरी अर्ग (प्रातःकालीन )
मनाया जाना है।
इस प्रकार चार दिनो तक होने वाला छठ से छठी मईया सभी भक्तो की मनोकामना पूरी करती है। छठी मईया को सूर्यदेव की बहन माना जाता है। एसी मान्यता है कि छठ सर्वप्रथम मर्यादा पुरुषोत्तम राम के लौटने पर बिहार के मुंगेर जिले में सीता माता ने सर्वप्रथम छठ किया। फिर छठ पर्व करने का सिलसिला चल पड़ा और सूर्य पुत्र कर्ण ने सुर्यदेव का आराधना किया, जिससे वो महान योद्धा बने। छठ की महिमा ना केवल रामायण अपितु महाभारत में भी देखा जाता है। महाभारत में जब पांच पांडव जुवे में अपना सब कुछ हार गये, तब द्रोपदी ने सुख और समृद्धि के लिये छठ किया था जिससे पांडवो को अपना राजपाट मिल गया। इस प्रकार छठ पूजा की महिमा सदियों से देखने को मिलती है और जिन -जिन स्थानों पर भारतीय लोग बसे है वहां छठ पूजा बड़ी धूम-धाम से मनाया जाता है।



संबधित खबरें