इलेक्शन न्यूज़ अपडेट

निर्वाचन आयोग कर रहा हाइटेक बंदोबस्त, घर बैठे अपने पोलिंग बूथ की भीड़ को देखें फिर प्लान कर जा सकते है 'वोट' डालने

By: डीएनए न्यूज़। महासुमन्द
2018-11-06 08:13:48 PM
0
Share on:

महासमुंद, 06 नवम्बर 2018। इस बार वोटर भी घर बैठे देख सकेगें कि उनकी पोलिंग बूथ में कितनी लंबी लाईन लगी है। यानि अब लोग घर से प्लान करके मतदान के लिए जा सकेगें। चुनाव आयोग द्वारा पहली बार क्यू मैनेजमेंट सिस्टम लागू कर रहा हैं।

मतदान केन्द्रों में कतार की जानकारी चुनाव आयोग और मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी की वेबसाइट पर देख सकेगें। ये पूरा सिस्टम स्पॉट मॉय टेªन की तर्ज पर काम करेगा। रियल टाइम में मतदान केन्द्र से जुड़ी जानकारियां जैसे, वहा कितने लोग हैं, वोट का प्रतिशत उस वक्त तक क्या रहा आदि बातें लोग घर बैठे ही जान सकेगें। क्यू मैनेजमेंट सिस्टम 11 नवम्बर से ही लागू होगा। 
मोबाईल एपः- सी- विजिल एप शिकायतों के लिए, सुविधा, उम्मीदवारों की सभा आदि की मंजूरी के लिए हैं। वीवीपैटः- वीवीपैट के प्रयोग से वोटिंग के बाद वोटर डिस्प्ले में सात सेकण्ड तक देख पायेगें कि किसे वोट दिया हैं। वुमन मैनेस्ड पोलिंग स्टेशनः- हर विधानसभा में एक पिंक बूथ होगा जिसका प्रबंधन महिलायें करेगीं।

बूथ को ऐसा बनाया गया हैं कि जिनका रंग भी गुलाबी रखा गया हैं। पर्ची के साथ नक्शाः- वोटरों को इस बार पर्ची से साथ बूथ का नक्शा व वोटिंग गाइड भी दी जायेगी। बूथ लेवल प्लानिंगः- निर्वाचन आयोग की ओर से हर बूथ के मैनेजमेंट का प्लान बनाया गया हैं। कहां कितनी भीड़ पता चलेगा- नेट के जरिये वोटर घर से जान सकेगें किन बूथों में कितनी भीड़ हैं।

सोशल मीडिया एकाउंट‘- उम्मीदवारों को सोशल मीडिया एकाउंट और ईमेल की जानकारी भी देनी होगी। सुगम पर्यवेक्षकः- दिव्यांग वोटरों की सुविधाओं के लिए पहली बार एक्सेसेबिलटी पर्यवेक्षक तैनात रहेगें। नो- ड्यूज सर्टिफिकेट सभी उम्मीदवारों को नो ड्यूज का अतिरिक्त शपथ पत्र देना होगा। क्रिमिनल बैकग्राउंडः- आपराधिक पृष्ठभूमि वालों को अपने रिकार्ड मीडिया के जरिए सार्वजनिक करने होंगे। 



संबधित खबरें