EXCLUSIVE NEWS

आचार सहिंता का उल्लंघन: भाजपा के पुरन्दर, डीसी, संपत और कांग्रेस के दिलावर पर हो सकता है कार्रवाई

By: डीएनए न्यूज़। छत्तीसगढ़
2018-10-16 07:17:14 PM
0
Share on:

महासुमन्द में आचार संहिता के नियमों की उड़ रही धज्जियाँ, गाँव के दीवालों में अब भी दिख रहा भाजपा कांग्रेस पार्टियों का लेखन

16 अक्टूबर महासुमन्द/बसना : आगामी विधानसभा चुनाव के चलते राज्य में आचार संहिता लागू है। प्रशासन द्वारा सभी स्थानो से होर्डिग-बैनर हटाते हुए आचार संहिता के पालन के लिए जिले स्तर से लेकर पंचायत स्तर तक कार्रवाई की गई। परन्तु ग्राम स्तर पर कार्रवाई शून्य नजर आई। 

ग्राम में आचार संहिता के नियमों को ताक में रखकर दो पार्टियों के लेखन दीवारों में रंगे नजर आ रहे है। जिसमे भाजपा पार्टी के तीन नेताओं एवं कांग्रेस के एक नेता का दीवार लेखन अब भी चमक रहा।
ज्ञात हो कि भाजपा नेता में एक नीलांचल सेवा समिति के संरक्षक और  नगर पंचायत बसना के अध्यक्ष संपत अग्रवालका लेखन है। वही बगल में ही   पुरंदर मिश्रा और डी.सी. पटेल का भी लेखन दीवार में दिखाई दे रहा है. जबकि एक अन्य लेखन कांग्रेस नेता दिलावर कुमरे का है.

ये सारे लेखन बसना विकासखंड के ग्राम पंचायत गुढ़ियारी के आश्रित गाँव पीपल खूंटा के अँधेरीडीपा का है जहाँ आज भी आचार संहिता लगने के बाद भी नेताओ के लेखन देखने को मिल रहे है. 

कार्रवाई का अभाव

बात दे कि 8 अक्टूबर को अवैध होडिंग, बैनर, पोस्टर एवं दीवारों में लिखे गए प्रचार प्रसार नारा लेखन को हटाने हेतु संपत अग्रवाल, डीसी पटेल, पुरंदर मिश्रा, उषा पटेल, संकल्प दास, त्रिलोचन नायक समेत अन्य को ज्ञापन जारी हुआ। जिसके बाबजूद प्रचार-प्रसार सामग्री नही हटाने पर निर्वाचन नियमों के तहत कार्रवाई करने की बात पत्र के माध्यम से कही गई। अब देखना यह है कि दिग्गज नेताओं पर प्रशासन द्वारा क्या कार्रवाई की जाती है यह प्रश्न का विषय है?

अधिकारियों में हड़कंप

डीएनए न्यूज़ ने जब अधिकारियों को आवगत कराया तो हड़कंप मच गया। सब एक दूसरे पर जिम्मेदारी को थोपने लग गए। जिसके बाद से ग्राम के दीवालों के लेेेखन मिटाने के लिए प्रशासनिक अमला जुट गया। 

 

गांव से बैनर पोस्टर हटा दिए है। पीपल खूंटा के तरफ नही हटा होगा सर तो उसको हटा दिया जाएगा।
रोहिणी जगत
सचिव, ग्राम पंचायत गुढ़ियारी

गांव में अभी भी बैनर पोस्टर नही हटे है तो आचार सहिंता का उल्लंघन है। पंचायत स्तर में मुख्य कार्यपालन अधिकारी देख रहे है उनसे बात कर आवगत करा दीजिए।
केके चंद्राकर
कार्यपालन मजिस्ट्रेट

गांव-गांव में ग्राम के सचिव के माध्यम से बैनर पोस्टर व दीवाल लेखन हटाये गए है। अगर गुढ़ियारी पंचायत से लेखन नही मिटा है तो तत्काल सचिव से बात करता हूँ।

राजेन्द्र वर्मा
सीईओ, बसना



संबधित खबरें