EXCLUSIVE NEWS

महासुमन्द: बदहाल स्वास्थ्य व्यवस्था ने ली अशोक की जान, जिम्मेदार कौन? सांसद आदर्श ग्राम का मामला

By: डीएनए न्यूज़ । महासुमन्द
2018-10-13 01:32:25 AM
0
Share on: महासमुंद जिले की ख़बर ग्रुप

  • युवक की मौत के बाद कोमाखान को सांसद गोद ग्राम की जगह अनाथ ग्राम के नाम से संबोधित कर रहे ग्रामीण

महासमुंद 13 अक्टूबर : शासन की बदहाल व्यवस्था के चलते 25 वर्षीय युवक ने अपनी जान गवां दी। मामला सांसद ग्राम कोमाखान का है। जहां  रात्रिकालीन इलाज सुविधा नही हो पाने से अथवा अस्पताल बन्द होने के कारण अशोक की मौत हो गई। मौत होने की खबर सुनते ही ग्रामीणों ने अस्पताल में ही पथराव कर दिया। 
दअरसल पूरा माामला यह है कि कोमाखान में अज्ञात बाइक सवार ने पैैैदल चल रहे युवक को ठोकर मार दिया। जिससे पैदल यात्री गंभीर रूप से घायल हो गया। दुर्घटना कोमाखान प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र अस्पताल के समीप हुआ लेकिन अस्पताल बंद होने के कारण समय पर इलाज नही मिलने से उसकी मौत हो गई। गुस्साए ग्रामीणों ने अस्पताल में पत्थरबाजी कर दिए। इस दौरान शासन के प्रति लोगों में काफी आक्रोश देखा गया।

जानकारी के मुताबिक मृतक अशोक कुमार 25 वर्ष चरोदा (खल्लारी) निवास बताया जा रहा है। वे अपने ससुराल कोमाखान आया हुआ था। अस्पताल के सामने अज्ञात वाहन चालक द्वारा ठोकर मारने के कारण अशोक को गहरी चोट आई जिसे देख ग्रामीणों द्वारा प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र कोमाखान ले जाया गया जहाँ शाम से ही अस्पताल के सभी दरवाजो पर ताले लटकते दिखा। ग्रामीणों द्वारा 112 को भी फोन लगाया गया पर इस इमरजेंसी सेवा पर भी फोन नही लगाने की बात कही गई। बदहाल व्यवस्था और समय पर ईलाज नही होने से अशोक ने दमतोड़ दिया। 

शासन की बदहाल व्यवस्था से नाराज ग्रामीण
असुविधाओं के लिए पिछले कई महीनों से सुर्खियों में रहा कोमाखान जहाँ कुछ दिन पूर्व ही एक जनपद सदस्य द्वारा 3 दिन अनशन पर बैठ रहे। समस्त ग्रामीणों द्वारा क्रमिक भूख हड़ताल में बैठ कर एवम एक दिवसीय बंद के आह्वान के बाद प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र कोमाखान 3 दिन डॉक्टर के आने की मंजूरी मिली थी। अस्पताल बन्द होने से एक युवक की जान चले गई। वही गुस्साए लोगों में इसकी जिम्मेदारी शासन-प्रशासन की बदहाल व्यवस्था को बताया।



संबधित खबरें